Business

Text of PM’s remarks at International Conference on Yoga for Holistic Health

Text of PM’s remarks at International Conference on Yoga for Holistic Health

Text of PM’s remarks at International Conference on Yoga for Holistic Health

Fellow practitioners of yoga assembled here today and all over the world,

Today we are celebrating the first International Day of Yoga. When I spoke at the United Nations General Assembly on 27 September, 2014, urging the world community to adopt an international day of yoga, little did I know the kind of unprecedented response our proposal would receive.

The community of nations responded as one. On December 11, 2014 the 193-member United Nations General Assembly approved the proposal by consensus with a record 177 co-sponsoring countries. वैसे UN के इतिहास में अपने आप में एक बहुत बड़ी घटना है।

As I stand here today the International Day of Yoga is being celebrated across the world.

Millions of people around the world are participating in this event. From sunrise in the Far East to sunset in the furthest corner of the western hemisphere, people will join in this great celebration of yoga today.

In India, this morning, millions of people participated in a simple yoga demonstration at Rajpath, in states and district capitals, in community groups and in their homes also. This solidarity in yoga, this coming together with our brothers and sisters in other countries, brings our hearts and minds closer. I am also happy to release here today a commemorate coin and postal stamp on the occasion.

I am grateful to the international community for the support. I acknowledge with all humility that this support is not just for India. This support is for the great tradition of yoga, the tradition that helps individuals and societies to discover a sense of oneness with the self, with each other and nature.

The reach and spread of yoga spans continents, cuts across differences of colour, class and creed. I am told that there are communities of yoga practitioners in almost every country in the world.

From the banks of the river Indus to every continent in the world yoga has spread harmony between man and nature and a holistic approach to health and wellbeing.

It is said that yoga transforms lives जो लोग योगा से परिचित है उन्‍हें पता है कि योगा एक प्रकार से अगर हममें से कोई ऐसा नहीं होगा दुनिया में कोई इंसान ऐसा नहीं होगा जो ये न चाहता हो कि वो जीवन को जी-भर जीना चाहता है। हर कोई जीवन को जी-भरके जीना चाहता है और मैं विश्‍वास से कहता हूं कि योग ये जीवन को जी-भरके जीने की जड़ी-बूटी है।

In order to benefit fully from yoga, to understand yoga in its entirety, we must understand who is a yogi.

A yogi is a person who is in harmony – with herself, her body, with her surroundings, with nature. Yoga is the means to achieve that harmony.

From the Upanishads, comes the idea of Yoga to transform human consciousness through control of body and senses through constant practice. The body is the vehicle for the realization of the Supreme Being.

The Bhagvad Gita – the song of the world – is a call to action and defines itself as a योगशास्त्र . The Gita says “योग कर्मेषु कौशलम्” – that is, yoga is excellence at work. Work with devotion and without attachment is yoga.

The Gita also says “योगस्य तथा कुरू कर्माणी” – act with the discernment of a yogi.

Yoga is, therefore, a vision for a harmonious future for humanity. It is an “अवस्था”. That Is a state of mind and is a distinct from a “व्यवस्था”. कई लोगों को योग एक व्यवस्था के रूप में दिखता है, योग एक अवस्था है, योग कोई संस्था नहीं है। योग य़ह आस्था है और जब तक हम उसे उस रूप में नही पाते, जब तक हम उसे टुकड़ो में देखते हैं उसकी पूर्णता को पहचान नहीं पाते।

People often think that yoga is just a set of exercises. Yoga is a philosophy of discipline and meditation that transforms the spirit and makes the individual a better person in thought, action, knowledge and devotion.

The problems of modern lifestyles are well known. People suffer from stress related ailments, lifestyle related diseases like diabetes and hyper-tension. We have found ways to control communicable diseases, but the burden of disease is shifting to non-communicable diseases. Young people who are not at peace with themselves seek refuge in drugs and alcohol. There is ample evidence that practicing yoga helps combat stress and chronic conditions. If the body is a temple of the mind, yoga creates a beautiful temple.

The benefits of yoga are manifold. When practised correctly and with discipline, Yoga leads to:

Perfection of our body’s potential in strength, skill, and general well-being, peaceful and stress-free living. कभी- कभार योगा की शक्ति को पहचानने में भी हम वैसी ही गलती कर देते हैं, जैसी हम अपने आप को पहचानने में करते हैं। जिस व्यक्ति ने वृक्ष नही देखा है, बीज से वृक्ष बनता है उसका ज्ञान नही है और उसे कोई बीज (seeds) बता दे कि देखो कि इसमें ये Potential है कि इतना महान वृक्ष बन सकता है, तो वो विश्वास नही करेगा वो सैंकड़ो सवाल पूछेगा । लेकिन उसी छोटे से बीज का अगर उचित लालन-पालन हो खान-पान हो, ऊर्जा हो, पानी हो, प्रकृति का साथ हो तो वही बीज वटवृक्ष में convert हो जाता है| मनुष्य के भीतर भी परमात्मा ने सभी शक्तियां दी हुई है। मुझे दिया है और आपको नही दिया है, ऐसा नही है | मानव मात्र को यह सामर्थय दिया हुआ है लेकिन जो उसके लालन-पालन की कला जानता है, जो उसे विकसित करने का अवसर प्राप्त करता है, जो व्यव्स्था के तहत, आस्था के तहत, practice के तहत धीरे-धीरे विकसित करता है तो वो भी उत्कृष्ट जीवन की उंचाईयों को प्राप्त कर सकता है और परमात्मा ने जीव मात्र मे जहां है वहां से ऊपर उठने की सहज इच्छाशक्ति दी है और योग उस परिस्थिति को पैदा करने का एक माध्यम है और इसलिए जिसको ज्ञान नही है, अनुभव नही है उसको शक होता है कि क्या योगा से संभव हो सकता है लेकिन जिसने बीज से बने वृक्ष की कथा को समझा है, उसके लिए यह संभव है। यदि बीज वटवृक्ष में परिवर्तित हो सकता है तो नर भी नारायण की स्थिति प्राप्त कर सकता है। अहम् बर्ह्मास्मि। रामदेव जी कह रहे थे अहम् बर्ह्मास्मि। जल, चेतन सबकुछ को अपने में समाहित करने का सामर्थय तब प्राप्त होता है जब स्वयं का विस्तार करते हैं। योगा एक प्रकार से स्व से समस्ति की यात्रा है। योगा एक प्रकार से अहम् से व्यम की ओर जाने का मार्ग है और इसलिए जो अहम् से व्यम की ओर जाना चाहता है जो स्व से समस्ति की ओर जाना चाहता है, जो प्रकृति के साथ जीना सीखना चाहता है, योग उसको अंगुली पकड़ के ले जाता है, चलना तो उसको ही पड़ता है और उस अर्थ में इसके सामर्थय को अगर जानें। और आज खुशी की बात है, जब हमने 20वीं शताब्दी की समाप्ति से 21वीं शताब्दी में प्रवेश किया। उस पल को याद कीजिए। पूरे विश्व में सूरज की किरणें जहां जहां जाती थी, आनंद उत्सव बनाया था। जब century बदली थी वो पल कैसा था आज दुबारा वो पल विश्व अनुभव कर रहा है। जहां- जहां सूरज की किरणे जा रहीं हैं। योग को अभिषिक्त करती जा रही है। पूर्व से पश्चिमी छोर तक ये यात्रा चल रही है। ये वैसा ही अवसर पैदा हुआ है जैसा 20वीं शताब्दी की समाप्ति से 21वीं शताब्दी में प्रवेश का पल था और विश्व ने जो अनुभूति की थी वो विश्व आज योगा के लिए कर रहा है। हर भारतीय के लिए, हर योगा प्रेमी के लिए, विश्व के हर कोने में बैठे व्यक्ति के लिए इससे बड़ा कोई गौरव नहीं हो सकता और उस गौरवगान में जब हम आगे बढ़ रहे हैं तब Control and mastery of our life-energies (प्राण) leading to health, long and disease-free life, capacity for full enjoyment of life.

Opening and refining of the heart’s emotions leading to greater compassion, mutual understanding, and sensitivity to the needs of others.

Full development of our mental powers, leading to heightened concentration, intelligence, creativity, intuition.

Liberation of our spirit from ignorance, suffering, incapacity, leading to freedom, equality, constant joyfulness and inner strength to overcome all challenges of life. It awakens the deeper sense of unity and oneness with the whole Universe and all living beings.

Together, these lead to the realisation of our highest divine Perfection.

At a community level, the evolution of the individual through yoga results in:

Reduction of greed, coarseness and violence in thought and action.

Enormous reduction in the cost of healthcare and social support.

A dramatic reduction in conflicts and misunderstandings within families, communities, and between nations.

Increased collaboration and effective teamwork in businesses and communities

Compassion towards all beings: plants, animals and humans and long-term and ecological thinking in all socio-economic planning.

Increased power of innovation, technology and knowledge; deeper impact of art, music, poetry, dance to uplift the quality of life and an overall increase in the pace of human development and evolution.

To sum up, in a world of excess, of seeking after materialism, yoga promises restraint and balance. In a world suffering from mental stress, yoga promises calm. In a distracted world, yoga creates focus, creates concentration. In a world of fear, yoga promises strength and courage. A healthy body and a disciplined mind are the foundations of a world free from fear. In crafting a new self through Yoga, we create a new world.

We live in a world that is divided, in a world in conflict over material gains. A world in conflict over failures to understand each other. How shall we understand each other, if we do not understand ourselves?

Swami Vivekanand says in his book on Rajyoga – “Each soul is potentially divine. The goal is to manifest this Divinity within by controlling nature, external and internal. Do this either by work, or worship, or control, or philosophy – by one, or more, or all of these — and be free. This is the whole of religion. Doctrines, or dogmas, or rituals, or books, or temples, or forms, are but secondary details.”

It is this freedom that will free us from misunderstandings, from doubt, from conflict, and lead us towards world peace.

We are at a point in history, where global warming threatens the world as we know it. The world’s ecology is threatened by human greed and excess. Yoga shows the way to consumption that is healthy, balanced, and in tune with nature.

We will need to raise a generation that lives according to these principles if we want to leave the world habitable for future generations.

Sri Aurobindo said “Indian Yoga is potentially one of these dynamic elements of the future life of humanity. it is now emerging from the secret schools and ascetic retreats in which it had taken refuge and is seeking its place in the future sum of living human powers and utilities.”

The spread of yoga, therefore, is the symbol of a changing world. In the past, yoga was the preserve of a select few saints. Today, it is available to all – in the words of Patanjali, “सार्वभौम” or a universal culture.

It represents a world where knowledge flows, without restriction of country, creed or class. It represents a world where people come together across boundaries, for causes and concerns that unite the planet.

आप कल्पना कर सकते है कि श्री अरबिंदो के ज़माने में ये कहीं नज़र नहीं आता था कि योग जन सामान्य का विषय बनेगा, बहुत ही सीमित दायरे में था लेकिन योगी अरविन्द के दृष्टि थी और उन्होंने ये तब देखा था कि वो वक्त आएगा जब योग जनसामान्य के जीवन का हिस्सा बनेगा. वो कुछ परम्पराओं में या संतों तक सीमित नहीं रहेगा , वो जन जन तक पहुंचेगा . आज से करीब 75 साल पहले श्री अरविन्द ने जो देखा था वो आज हम अनुभव कर रहे हैं . और यही तो ऋषि मुनियों के सामर्थ्य का परिचायक होता है और ये ताकत आती है योग के समर्पण से , योग कि अनुभूति से और योगमय जीवन से आती है. The closest parallel I can think of is the movement to protect the environment, to protect the world that we live in.

As we work to make the benefits of yoga accessible to the whole world, we will also work to keep barriers to knowledge down, to ensure free flow of knowledge and information across boundaries. We will work to maintain an open world free of prejudice and discrimination.

I greet all present here today, my fellow travelers in spreading the message of yoga. I greet all my fellow practitioners in different countries who are present here in spirit. Yoga is our collective gift to humanity. It may have originated in India, but it draws its energies from the millions who practice it around the world. International Yoga Day is not the brainchild of a government or of the United Nations. It is a reflection of the largest knowledge based peoples’ movement the world has ever seen. A movement of people whose lives have been touched, been changed by yoga. We will take this movement forward to aim for better health, more fulfilled lives and more connected communities.

On this day, I also pledge the spirit of India, the collective energy of our people, to the creation of a more equal world, a world without fear, a world of peace. We will build on the foundations of the Indian spirit and its creative genius to reach out and foster a culture of inclusiveness, of fraternity, of one global family – वसुधैव कुटुम्बकम.

I will end with the grand invocation of good health and peace – the Shanti Paath,
Sarve Bhavantu Sukhinah
Sarve Santu Niramaya
Sarve Bhadrani Pasyantu
Ma Kascit Dukkha Bhagbhavet

May All Be Happy
May all be free from illness
May all see that which is auspicious
May no one suffer

आप सब को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर बहुत-बहुत शुभकामनायें देता हूँ और ये दो दिवसीय सेमिनार… विश्‍व की हमसे अपेक्षाएं बहुत बढ़ जाएगी। अब यह हमारा दायित्‍व बनता है कि विश्‍व की अपेक्षाओं के अनुकूल योग के सही रूप को और समयानुकूल स्थिति में, हम जगत तक कैसे पहुंचाएं? दुनिया समझे उस terminology में, हम इसे कैसे पहुंचाएं?

मैं कभी-कभी कहता हूं कि अच्‍छे-से-अच्‍छे Mobile Phone की Brand हो लेकिन बहुत कम लोग होते हैं जिनको उसके user-manual का अता-पता होता है। ज्‍यादातर तो red and green button से ही उसका संबंध रहता है telephone cut करना और telephone on करना और जिसको उसका ज्ञान होता है user-manual का उस छोटी सी चीज से अपनी हथेली में सारी दुनिया को अपने हाथ में कर लेता है। परमात्‍मा ने हमें भी जो software दिया है न हमें उसके user-manual का पूरा पता ही नहीं है। हमें भी मालूम नहीं है कि परमात्‍मा ने हमें क्‍या-क्‍या दिया है? अगर हम योगा के माध्‍यम से उस user-manual को पढ़ना सीख लें तो फिर उपयोग करना धीरे-धीरे आ ही जाएगा।

मैं कभी-कभी सोचता हूं मेरी handwriting तो अच्‍छी नहीं है लेकिन आपने देखा होगा कि एक teacher जो कि अच्‍छी handwriting के प्रति बड़े आग्रही हैं। class room में अपने students को सिखाते हैं लेकिन कुछ बच्‍चे होते है जिनकी handwriting बहुत अच्‍छी तरह सुधरने लग जाती है और कुछ लोग होते है pen वैसे ही पकड़ते हैं best quality का pen भी होता है कागज भी बढि़या से बढि़या होता है teacher भी भरपूर मेहनत करता है वो भी ऐसे ही हाथ घुमाता है लेकिन handwriting अच्‍छे नहीं आती फर्क किया है जिसके handwriting उत्‍तरोत्‍तर ठीक होने लगती है और एक अवस्‍था ऐसी आ जाती है कि वो कितनी ही भीड़-भाड़ में क्‍यों न हो, कितनी ही जल्‍दी में क्‍यों न हो बुढ़ापे की ओर चल दिया हो, हाथ थोड़ा कांपने लगा हो तो भी handwriting अच्‍छी ही रहती है। उसको कोई conscious effort नहीं करना पड़ता है। कोई जागरूक प्रयास नहीं करना पड़ता, वो सहज अवस्‍था होती है …क्‍यों? उसने उसको internalize कर दिया है। जिसकी handwriting खराब है और वो consciously किसी विशेष व्‍यक्ति को चिठ्ठी लिखना चाहता है एक-दो लाईन तक तो ठीक कर लेता है फिर लुढ़क जाता है क्‍योंकि internalize नहीं किया है।

योग को समझने के लिए, मैं मानता हूं जिस बालक ने बचपन में तुरंत इसको adopt कर लिया अच्‍छे handwriting का कारण होगा उसके मन में जो चित्र बनता होगा उसकी आत्‍मा उसके साथ जुड़ती होगी, उसकी बुद्धि उसको आदेश देती होगी, उसका शरीर act करता होगा और वो परम्‍परा जीवनभर चलती होगी, वो योग का एक छोटा-सा रूप है और इसलिए मैं कहता हूं कि practice से, training से हम इन अवस्‍थाओं को प्राप्‍त कर सकते है और इन अवस्‍थाओं को प्राप्‍त करने के लिए अगर हम और ये बात सही है कि कोई बहुत बड़ी-बड़ी बातें बताता है तो फिर कठिनाई हो जाती है, फिर धीरे-धीरे विश्‍वास डूबने लग जाता है लेकिन छोटी-छोटी बातों से देखें तो पता चलता है यार ये तो मैं भी कर सकता हूं, ये तो दो कदम मैं भी चल सकता हूं। हमने विश्‍व के सामने योग का वो रूप लाना है कि भाई ठीक है आज नहीं लेकिन दो कदम चलो तो तुम पहुंच जाओगे। अगर ये हमने इसको बनाया तो मैं समझता हूं कि बहुत बड़ा लाभ होगा।

भारत के सामने एक बहुत बड़ी जिम्‍मेवारी है, मैं बहुत जिम्‍मेवारी के साथ कहता हूं अगर योग को हम commodity बना देंगे तो शायद योग का सबसे ज्‍यादा नुकसान हमारे ही हाथों हो जाएगा। योग एक commodity नहीं है, योग वो brand नहीं है जो बिकाऊ हो सकती है। ये जीवन को जोड़ने वाला, जीवन को प्रकृति से जोड़ने वाला एक ऐसा महान उद्देशय है जिसको हमने चरितार्थ करना है और विश्‍व भारत की तरफ देखेगा और ये बात सही है आज से 50 साल पहले कभी भी हमने बाजार में board देखा था “शुद्ध घी की दुकान” देखा था 50 साल पहले शुद्ध घी की दुकान ऐसा board नहीं होता था लेकिन आज होता है क्‍यों? क्‍योंकि बाजार में माल आ गया है। योगा के संबंद्ध में कभी ऐसा न आना चाहिए वो दिन अभी तो बचे हुए है लेकिन कभी वैसा दिन नहीं आना चाहिए कि हमारा ही योगा सच है बाकि तो तुम बे-फालतु में कान-नाक पकड़ करके डॉलर खर्च कर रहे हो। ये व्‍यापार नहीं है, व्‍यवस्‍था नहीं है, ये अवस्‍था है और इसलिए जगत के कल्‍याण के लिए, मानव के कल्‍याण के लिए, मानव के भाग्‍य को बदलने के लिए ये भारत की भूमि का योगदान है। उसमें संजोने-संवारने को काम भारत के बाहर के लोगों ने भी किया है उनका भी ऋण स्‍वीकार करना होगा। इसे हम हमारी बपौती बना करके न बैठे ये विश्‍व का है, मानवजात का है और मानवजात के लिए है। ये इस युग का नहीं अनेक युगों के लिए है और समय के अनुकूल उसमें परिवर्तन भी आने वाला है।

जिन्‍होंने, जैसे हेगड़े जी बता रहे थे solar विमान के अंदर योगा किया होगा तो हो सकता है जगह कम होगी तो उनको वो योगा सिखाया होगा कि भई तुम ऐसे नाक पकड़ों, ऐसे पैर करो, हाथ नहीं हिलता तो कोई नहीं ऐसे कर लो उन्‍होंने modify किया होगा। तो जहां जैसी आवश्‍यकता हो वैसे परिवर्तन करते हुए इसको और आधुनिक बनाना और अधिक वैज्ञानिक बनाना और विज्ञान की कसौटी पर कसता चला जाए तो विश्‍व कल्‍याण के इस काम को हम करते रहेंगे, करना होगा और उस जिम्‍मेवारी को हम निभाते रहेंगे।

मैं फिर एक बार इस सारे अभियान में विश्‍वभर का ऋणी हूं। विश्‍व की सभी सरकारों का ऋणी हूं, विश्‍व के सभी समाजों का ऋणी हूं और मैं सबका बहुत-बहुत आभार व्‍यक्‍त करता हूं।

More in Business